Menu Close

बाबर कौन था? क्या है उस मुगल शासक का इतिहास

बाबर कौन था? क्या है उस मुगल शासक का इतिहास: बाबर के चचेरे भाई मोहम्मद हैदर ने लिखा है कि उस समय, जब चुगताई लोग असभ्य तथा असंस्कृत थे तब उन्हे ज़हिर उद-दिन मुहम्मद का उच्चारण कठिन लगा। इस कारण उन्होंने इसका नाम बाबर रख दिया।

बाबर कौन था

बाबर कौन था

ज़हीरुद्दीन मुहम्मद बाबर (14 फ़रवरी 1483 – 26 दिसम्बर 1530) जो बाबर के नाम से प्रसिद्ध हुआ, वह “मुगल वंश” का शासक था । उसका जन्म मध्य एशिया के वर्तमान उज़्बेकिस्तान में हुआ था। वह भारत में मुगल वंश का संस्थापक था। वो तैमूर लंग का वंशज थे, और विश्वास रखता था कि चंगेज़ ख़ान उसके वंश का पूर्वज था। मुबईयान नामक पद्य शैली के जन्मदाता बाबर को ही माना जाता है। 1504 ई.काबुल तथा 1507 ई में कंधार को जीता था तथा बादशाह (शाहों का शाह) की उपाधि धारण की 1519 से 1526 ई. तक भारत पर उसने 5 बार आक्रमण किया तथा सफल 1526 में उसने पानीपत के मैदान में दिल्ली सल्तनत के अंतिम सुल्तान “इब्राहिम लोदी”(लोदी वंश) को हराकर “मुगल वंश” की नींव रखी उसने 1527 में खानवा 1528 मैं चंदेरी तथा 1529 में आगरा जीतकर अपने राज्य को सफल बना दिया 1530 ई० में उनकी मृत्यु हो गई।

बाबर का जन्म फ़रगना घाटी के अन्दीझ़ान नामक शहर में हुआ था जो अब उज्बेकिस्तान में है। वो अपने पिता उमर शेख़ मिर्ज़ा, जो फरगना घाटी के शासक थे तथा जिसको उसने एक ठिगने कद के तगड़े जिस्म, मांसल चेहरे तथा गोल दाढ़ी वाले व्यक्ति के रूप में वर्णित किया है, तथा माता कुतलुग निगार खानम का ज्येष्ठ पुत्र था। हालाँकि बाबर का मूल मंगोलिया के बर्लास कबीले से सम्बन्धित था पर उस कबीले के लोगों पर फारसी तथा तुर्क जनजीवन का बहुत असर रहा था, वे इस्लाम में परिवर्तित हुए तथा उन्होने तुर्केस्तान को अपना वासस्थान बनाया। बाबर की मातृभाषा चग़ताई भाषा थी पर फ़ारसी, जो उस समय उस स्थान की आम बोलचाल की भाषा थी, में भी वो प्रवीण था। उसने चगताई में बाबरनामा के नाम से अपनी जीवनी लिखी।

मंगोल जाति (जिसे फ़ारसी में मुगल कहते थे) का होने के बावजूद उसकी जनता और अनुचर तुर्क तथा फ़ारसी लोग थे। उसकी सेना में तुर्क, फारसी, पश्तो के अलावा बर्लास तथा मध्य एशियाई कबीले के लोग भी थे।

बाबर का बेटा कौन था

बाबर का बेटा कौन था

बाबर का बेटा (पुत्र) हुमायूँ था। जो बाबर के बाद मुगल शासक बना। बाबर की मृत्यु के पश्चात हुमायूँ ने 29 दिसम्बर 1530 में भारत की राजगद्दी संभाली और उसके सौतेले भाई कामरान मिर्ज़ा ने काबुल और लाहौर का शासन ले लिया। बाबर ने मरने से पहले ही इस तरह से राज्य को बाँटा ताकि आगे चल कर दोनों भाइयों में लड़ाई न हो। कामरान आगे जाकर हुमायूँ के कड़े प्रतिद्वंदी बने। हुमायूँ का शासन अफ़गानिस्तान, पाकिस्तान और उत्तर भारत के हिस्सों पर 1530-1540 और फिर 1555-1556 तक रहा।

बाबर की मृत्यु कब हुई

बाबर की मृत्यु कब हुई

बाबर की मृत्यु 26 दिसंबर, 1530 को आगरा मे हुई। कहा जाता है कि अपने पुत्र हुमायूँ के बीमार पड़ने पर उसने अल्लाह से हुमायूँ को स्वस्थ्य करने तथा उसकी बीमारी खुद को दिये जाने की प्रार्थना की थी। इसके बाद बाबर का स्वास्थ्य बिगड़ गया और अंततः वो 1530 में 48 वर्ष की उम्र में मर गया। उसकी इच्छा थी कि उसे काबुल में दफ़नाया जाए पर पहले उसे आगरा में दफ़नाया गया। लगभग नौ वर्षों के बाद हुमायूँ ने उसकी इच्छा पूरी की और उसे काबुल में राजाराम जाट ने दफना दिया।

बाबर कौन था? क्या है उस मुगल शासक का इतिहास: हम उम्मीद करते है यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद साबित होगा। बाकी ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए आप नीचे दिए गए आर्टिकल देख सकते हो।

यह भी पढे:

Related Posts